मेरे बाप का पाप mere baap ka paap

मेरे बाप का पाप mere baap ka paap

mere baap ka paap
mere baap ka paap

दोस्तों आज, में अपने जीवन की एक सच्ची घटना को आप तक पहुँचाने के लिए यहाँ पर आई हूँ. वैसे में में अब पूरी बीस साल की हो चुकी हूँ और में एक औरत मर्द के बिच बने हर एक रिश्ते को भी बहुत अच्छी तरह से समझती थी, क्योंकि अब मुझ में वो समझ पूरी तरह से आ चुकी थी.अब मेरी आप बीती को सुनकर थोड़े मज़े आप भी ले लीजिए. दोस्तों एक बार जब मैंने पहली बार अपने पापा को मेरी मम्मी की दमदार मस्त चुदाई करते हुए देखा तो मुझे वो सब इतना अच्छा मुझे उसको देखकर इतना मज़ा आया कि में अब हर दिन चोरीछिपे उनका वो खेल देखने लगी थी आप यह भी मान सकते है कि मेरी एक आदत सी हो गई थी ऐसा करने के लिए मुझसे मेरी प्यासी चूत कहती थी.अब में धीरे धीरे इतनी पागल हो चुकी थी कि मुझे अब चुदाई सेक्स के अलावा और कुछ भी नजर नहीं आ रहा था और में भी अब अपनी इस चूत की चुदाई करवाकर कैसे भी करके उसको वो मज़े देकर शांत करना चाहती थी. में उसके लिए नये नये विचार बनाने लगी थी और फिर में पापा की वो बहुत देर तक लगातार चुदाई को देखकर इतना मस्त हो गई थी कि में अब अपने पापा को फँसाने का वो जाल बुनने लगी और आख़िर एक दिन मुझे वो कामयाबी मिल ही गयी, मैंने अपने पापा को उसमे फँसा ही लिया. Continue reading मेरे बाप का पाप mere baap ka paap