भूमि का भूमि पूजन

भूमि का भूमि पूजन

हैल्लो दोस्तों, यह कुछ ही दिन पहले की बात है. में बेलापुर स्टेशन पर बैठा था और तभी करीब रात के 10 बज रहे थे. में उधर वड़ा-पाव खाते हुए अपने बाज़ू में बैठी एक सेक्सी लड़की को देख रहा था, वो अपने हाथों से संतरा छीलकर खा रही थी. अब मेरा दिल तो कर रहा था कि में उसी तरह उसके संतरे भी खा जाऊं, क्या रसीले 32 साईज के बूब्स थे उसके? उसकी कमर 28 साईज की थी और गांड 36 साईज की थी, मानो लंड उसमें खो ही जाए, वो इतनी गोरी थी कि दूध भी उसके सामने कुछ नहीं है.उस दिन रविवार होने की वजह से स्टेशन पर बहुत कम लोग थे और आखरी हिस्से में बैठने की वजह से और वो एरिया भी खाली था. अब इस माहौल का फायदा उठाते हुए मैंने उस लड़की से बात करने की कोशिश की और बड़ी हिम्मत के बाद पता चला कि उसका बॉयफ्रेंड आने वाला था इसलिए वो यहाँ उसका इंतज़ार कर रही है. अब यह बात सुनकर मानो में बड़ा जल रहा था. Continue reading भूमि का भूमि पूजन

पराई बीवी को रखैल बनाकर सुहागरात मनाई

पराई बीवी को रखैल बनाकर सुहागरात मनाई

हैल्लो दोस्तों आप सभी पढ़ने वालों के लिए में अपनी एक मस्त पहली चुदाई की सच्ची घटना को आप सभी को सुनाने के लिए यहाँ तक पहुंचा हूँ और इसमें आज में आप सभी को बताने जा रहा हूँ कि कैसे मैंने अपने मकान मालिक की पत्नी को जमकर चोदा और उसकी चुदाई के मज़े लेकर उसको पूरी तरह से संतुष्ट किया? दोस्तों अब में आप सभी को अपना परिचय देते हुए अपनी आज की कहानी को सुनाता हूँ.दोस्तों मेरी उम्र 25 साल है और में हैदराबाद का रहने वाला हूँ. में बहुत अच्छे हंसमुख स्वभाव का अच्छा सुंदर दिखने वाला गोरे रंग का लड़का हूँ और मुझे देखकर हर कोई मेरी तरफ आकर्षित हो जाता है. मेरी लम्बाई 5.6 और मेरे लंड का आकार 6 इंच है जो किसी भी आकार की छोटी, मोटी चूत को अपनी चुदाई से पहली बार में ही पूरी तरह से संतुष्ट करने के लिए बहुत है और मैंने अपनी पहली चुदाई करके उस चूत को पहली बार में ही जन्नत के मज़े करवा दिए. Continue reading पराई बीवी को रखैल बनाकर सुहागरात मनाई

प्यासी विधवा माँ payasi vidhwa maa

प्यासी विधवा माँ payasi vidhwa maa

payasi vidhwa maa
payasi vidhwa maa

हैल्लो दोस्तों, में राजू आप लोगों के सामने अपनी एक सच्ची कहानी पेश कर रहा हूँ. मुझे आशा है कि यह कहानी आप लोगों को बहुत पसंद आएगी. एक बार मेरा तबादला 6 महीनों के लिए गुजरात स्टेट के नवसारी गाँव में हुआ, वहाँ में अपने एक गुजराती दोस्त के गाँव में रूका था. मेरे दोस्त के घर में उसकी 42 वर्षीय माँ रहती थी, वो विधवा थी और एक प्राइवेट स्कूल में टीचर थी और इतनी उम्र में भी उसका शरीर तंदुरुस्त और मोटा था, उसके चहरे पर हमेशा कामुकता झलकती रहती थी.मैंने कई बार उन्हें छुप-छुपकर अपनी चूत में उंगली डालकर चोदते हुए देखा था. फिर में सब समझ गया कि वो काफ़ी सेक्सी महिला है, लेकिन संकोच के कारण मेरी कुछ करने की हिम्मत नहीं हो रही थी. में अक्सर खाली समय में टी.वी. देखकर या किताब पढ़कर टाईम पास करता था. शनिवार और रविवार को मेरे दफ़्तर की छुट्टी होती थी, में दोस्त की माँ को माँ कहकर ही पुकारता था. Continue reading प्यासी विधवा माँ payasi vidhwa maa

मेरे बाप का पाप mere baap ka paap

मेरे बाप का पाप mere baap ka paap

mere baap ka paap
mere baap ka paap

दोस्तों आज, में अपने जीवन की एक सच्ची घटना को आप तक पहुँचाने के लिए यहाँ पर आई हूँ. वैसे में में अब पूरी बीस साल की हो चुकी हूँ और में एक औरत मर्द के बिच बने हर एक रिश्ते को भी बहुत अच्छी तरह से समझती थी, क्योंकि अब मुझ में वो समझ पूरी तरह से आ चुकी थी.अब मेरी आप बीती को सुनकर थोड़े मज़े आप भी ले लीजिए. दोस्तों एक बार जब मैंने पहली बार अपने पापा को मेरी मम्मी की दमदार मस्त चुदाई करते हुए देखा तो मुझे वो सब इतना अच्छा मुझे उसको देखकर इतना मज़ा आया कि में अब हर दिन चोरीछिपे उनका वो खेल देखने लगी थी आप यह भी मान सकते है कि मेरी एक आदत सी हो गई थी ऐसा करने के लिए मुझसे मेरी प्यासी चूत कहती थी.अब में धीरे धीरे इतनी पागल हो चुकी थी कि मुझे अब चुदाई सेक्स के अलावा और कुछ भी नजर नहीं आ रहा था और में भी अब अपनी इस चूत की चुदाई करवाकर कैसे भी करके उसको वो मज़े देकर शांत करना चाहती थी. में उसके लिए नये नये विचार बनाने लगी थी और फिर में पापा की वो बहुत देर तक लगातार चुदाई को देखकर इतना मस्त हो गई थी कि में अब अपने पापा को फँसाने का वो जाल बुनने लगी और आख़िर एक दिन मुझे वो कामयाबी मिल ही गयी, मैंने अपने पापा को उसमे फँसा ही लिया. Continue reading मेरे बाप का पाप mere baap ka paap

काव्या की चूत की भूख – kavya ki choot ki bhook

काव्या की चूत की भूख – kavya ki choot ki bhook

हैल्लो दोस्तों, यह कहानी बिल्कुल सच्ची है और बात कुछ ऐसी है कि मेरी एक स्कूल फ्रेंड थी काव्या, जो मेरे साथ स्कूल में थी, लेकिन स्कूल टाईम में उसमें इतनी कशिश नहीं थी जितनी मुझको उसमें तब मिली जब वो मुझको एक दिन पटना के गाँधी मैंदान में लगे एक मेले में मिली. अब में काफ़ी लोगों से बात कर रहा था, तो तभी एक अच्छी फिगर की लड़की मेरे सामने आकर खड़ी हो गई, तो में उसको देखता रहा और नहीं पहचान सका, लेकिन फिर कुछ देर में याद आया कि यह तो काव्या है, लेकिन में दिल ही दिल में सोचता रहा कि यह स्कूल में क्या थी? और अब क्या मस्त हो गई है? तो मैंने उससे कहा कि काव्या, तो वो बहुत ज़ोर से बोली एसस्स्स्सस्स और मुझसे बहुत ख़ुशी ज़ाहिर करके हाथ मिलाया और मुझसे मेरा मोबाईल नंबर लिया और कहा कि क्या एक कप कॉफ़ी नहीं पिलाओगे? तो मैंने कहा कि क्यों नहीं? और फिर में उसको एक कॉफ़ी शॉप में लेकर गया. Continue reading काव्या की चूत की भूख – kavya ki choot ki bhook

मामा के बाद भाई के लंड का स्वाद – Mama ke bad bhai ke land ka sawd

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम मीनू है, में दिल्ली की रहने वाली हूँ और में पिछले कुछ सालों से सेक्सी कहानियों के मज़े लेती आ रही हूँ, जिसको पढ़कर मेरी चूत की आग हमेशा बढ़ जाती है और चूत में लंड लिए बिना नहीं सकती. दोस्तों में बचपन से ही दिखने में बहुत ही सेक्सी और मेरी चूत बड़ी ही कामुक थी और मेरी बचपन से ही अपने भाई के साथ लिपटकर सोने की आदत है, इसलिए में हमेशा ऐसे ही सो जाती थी.दोस्तों पहले तो कुछ सालों तक जब तक में अपनी चूत को अपनी ऊँगली से या किसी भी चीज से शांत करती थी, तब तक सब कुछ ठीक था, लेकिन इस बार जब मेरा भाई घर आया, तब में पूरी तरह से बदल चुकी थी, क्योंकि में अपने मामा से अपनी चूत की चुदाई करवा चुकी थी और वो बाहर दूसरे शहर में एक होस्टल में रहकर अपनी पढ़ाई करता है और पूरे दो साल बाद अब आया है. Continue reading मामा के बाद भाई के लंड का स्वाद – Mama ke bad bhai ke land ka sawd