शादी में भाभी को घोड़ी बनाकर चोदा

bhabhi ki chudai
bhabhi ki chudai

हैल्लो दोस्तों, ये कहानी कुछ दिन पहले की है. में अपनी आंटी के यहाँ शादी में गया था और अब में शादी में जो कुछ भी हुआ, वो आप लोगों से शेयर करता हूँ और मुझे आशा है कि मेरी पिछली कहानियों की तरह यह कहानी भी आप लोगों को बहुत पसंद आएगी. दोस्तों जैसे कि मैंने अभी बताया कि में माँ के साथ अपनी आंटी के यहाँ शादी में हम 8 तारीख को पहुँच गये थे. आंटी ने शादी एक होटल में रखी थी और वहाँ सभी रिश्तेदार आए हुए थे.शादी के मौके पर मुझे मेरी आंटी ने गिफ्ट में गोल्ड की चैन दी. अब वहाँ मेरी भाभी यानि कि मेरी आंटी की बहू जो मुझसे हमेशा मज़ाक करती थी और हम जब भी मिलते थे, तो फ्लर्ट भी करते थे. भाभी आंटी से चैन लेकर बोली कि लाइए मुझे दीजिए, में राहुल को चैन पहनाती हूँ और आंटी के हाथ से लेकर मेरे गले में चैन पहना दी और हंसकर बोली कि मुझे चैन कब पहनाओगे? तो मैंने कहा कि इसी समय, देर किस बात की और मैंने तुरंत ही अपने गले की चैन उतारकर भाभी के गले में डाल दी और हंसकर उनके कान में बोला कि अब तुम मेरी हो गयी हो, आज इस शुभ मुहर्त में हम दोनों ने माला बदल ली है और पहना भी दी है. वो बोली कि में तो आपकी पहले से ही थी, लेकिन वो शर्माकर चैन उतारने लगी. मैंने कहा कि नहीं यह अब आप ही रखो, अब में इसे नहीं लूँगा, अब तो में तुमसे दूसरा गिफ्ट लूँगा, जो तुम अब मना नहीं कर सकती हो. वो पूछने लगी कि क्या? तो मैंने कहा कि बाद में बताऊंगा.

हम तैयार होने अपने-अपने रूम में चले गये. मेरा और भाभी का रूम आमने सामने था और जब हम लोग पार्टी हॉल में जा रहे थे, तो हम लिफ्ट में अकेले ही थे तो मैंने मौका देख सामने शीशे में देखकर कहा कि आज तो सिर्फ़ तुम्ही दिख रही हो और यह बोलकर मैंने भाभी के गाल दबा दिए. अब वो कुछ नहीं बोली और हम लोग शादी के प्रोग्राम में शामिल हो गये.

उस रात मैंने भाभी से खूब मज़ाक किया और भाभी ने भी मुझसे खूब मजाक की. अगले दिन जब सब मेहमान चले गये थे और कुछ रह गये थे. अब में, माँ, आंटी और कुछ रिश्तेदार बैठकर बातें कर रहे थे कि तभी मेरे भैया आए और बोले कि राहुल जरा अपनी भाभी को घर ले जाओ, उसे कुछ काम है. मैंने भाभी को अपने साथ लिया और घर आ गये. उस समय घर में हम दोनों के अलावा और कोई नहीं था. मैंने भाभी को चाय के लिए रिक्वेस्ट की, तो वो चाय बनाने चली गयी. तभी में भैया, भाभी के रूम में आया और भैया के कंप्यूटर पर इंटरनेट ऑन किया और अपनी मैल चैक करने लगा और साथ-साथ उसमें पॉर्न साईट सर्च कर रहा था. तभी भाभी आकर चुपचाप पीछे से खड़ी होकर देखने लगी. अब में भी हॉट सेक्सी सीन का मजा ले रहा था कि अचानक से मैंने देखा कि तो वो पीछे थी, तो में जैसे ही हड़बड़ी में पीछे घूमा तो वो चाय लेकर खड़ी थी, जो पूरी ट्रे उस पर पलट गयी थी.

मैंने उनसे जल्दी से बाथरूम में जाकर पानी से धोने के लिए कहा, क्योंकि चाय गर्म थी. वो जल्दी से बाथरूम में गयी और शॉवर ही खोल दिया, ताकि जल्दी से ठंडे पानी से आराम मिले. अब बाथरूम का दरवाज़ा खुला ही था तो मैंने कहा कि पानी तेज चला लो और तुम्हें कहीं जलन तो नहीं हो रही है, जल्दी से अपने कपड़े बदल डालो और यह कहते हुए में बाथरूम के पास चला गया, तो मैंने देखा कि वो भीगे कपड़ो में बेहद खूबसूरत लग रही थी और उसकी ब्रा ब्लाउज में से साफ नज़र आ रही थी. उसकी ब्रा में से उसके बूब्स बाहर आने को हो रहे थे और उसके बूब्स का साईज़ 38 था और उसकी साड़ी का पल्लू पूरा नीचे था. वो बोली कि मेरी अलमारी में से टावल ला दीजिए. में टावल निकालने चला गया. अब उसने अपनी साड़ी उतार दी थी और ब्लाउज भी खोल दिया था. अब वो अपनी ब्रा खोलने की कोशिश कर रही थी, लेकिन वो खुल नहीं रही थी.

मैंने उनको टावल पकड़ाया तो वो उसे अपने हाथ में लेकर हेंगर पर लटकाने के बाद अपनी ब्रा को खोलने की कोशिश करने लगी. मैंने बाहर से कहा कि में हेल्प करूँ, तो वो बोली कि हाँ-हाँ जल्दी खोलिए ना चाय गर्म थी ना और वो दरवाजे की तरफ अपनी पीठ करके खड़ी हो गयी. मैंने उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और उसकी कमर पर अपना हाथ फैरते हुए कहा कि कहीं जलन तो नहीं हो रही ना? अब ठंडे पानी को अपने बदन पर डालो और मैंने शॉवर चला दिया. अब उनके बूब्स शॉवर के नीचे बहुत ही सेक्सी लग रहे थे, उनके बूब्स उठते हुए थे. अब उनको देखकर मुझे पूरी मस्ती आ रही थी और अब में भी भीग गया था.

वो बोली कि आप भी भीग गये हो, जल्दी से अपने कपड़े उतार लीजिए. मैंने झट से अपने सारे कपड़े उतारकर टावल लपेट लिया. अब मेरा लंड पूरा टाईट होकर खड़ा हो गया था, जो टावल में से साफ-साफ दिख रहा था.

मैंने धीरे से उनकी गर्दन पर से उनके बाल हटाए और उनसे कहा कि जरा सामने घूमो कहीं यहाँ जलन तो नहीं हो रही है और पानी ठीक से पैर पर भी और जाँघ पर भी डालो, वहाँ भी चाय गिरी है और मैंने उनके पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया. भाभी ने जल्दी से अपना पेटीकोट उतार दिया और पानी से नहाई. मैंने कहा कि कही जलन हो रही हो तो क्रीम लगा लो.

वो बोली कि नहीं अब ठीक लग रहा है. मैंने कहा कि अब जलन मेरे बदन पर शुरू हो गयी है, अब वो बड़ी मदमस्त लग रही थी और अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था, अब में क्या करूँ? मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था. अब में भाभी की कमर पर अपना हाथ फैरने लगा था और बोला कि मेरी जान तुम तो इतनी सेक्सी हो, मैंने कभी सोचा भी नहीं था. अब भाभी का बदन पीछे से बहुत सेक्सी लग रहा था और उनके फिगर का साईज़ 34-30-38 था.

आज तो मुझे गिफ्ट चाहिए, यह बोलकर मैंने झट से पहले उनके हाथ को चूमा और उनके होठों को चूम लिया. वो बोली कि क्या कर रहे हो? तो मैंने कहा कि मस्ती और क्या? और थोड़ा सा आगे आकर उनके हाथ को दबाया और उनके पास सटकर खड़ा हो गया और उनके बालों को हटाते हुए अपने एक हाथ को उनकी कमर पर और दूसरे हाथ को उनके बूब्स के ऊपर रखते हुए उनको अपनी तरफ खींच लिया और उनसे बोला कि जब से मैंने आपके भीगे हुए बदन को देखा है, मेरे मन में आग सी लगी है, में बैचेन हो गया हूँ और आज में अपनी हर कामना को पूरा करना चाहता हूँ. अब में उनके बूब्स को दबाने लगा था.

वो पहले तो कुछ देर तक विरोध करती रही, लेकिन थोड़ी देर के बाद मैंने देखा कि वो उम्म्म्ममममम, आअहह की आवाज़े निकालने लगी और वो सस्स्स्स्सस्स, आहह, उम्म की मस्ती भरी और एक अजीब सी आवाज निकालने लगी, हालांकि वो उस वक्त भी ये दिखाने की पूरी कोशिश कर रही थी कि वो वैसा नहीं चाहती है, लेकिन उन्हें मज़ा आने लगा था.

अब में उसके बूब्स को जोर-जोर से दबाने लगा था और अपनी जीभ से चाटने लगा था और उनसे बोला इससे सारी जलन मिट जाएगी और चारों तरफ अपनी जीभ फैरने लगा, आहह क्या लग रही थी? अब में उनके निप्पल को चूस रहा था. मैंने उनके बूब्स को अपने हाथों में भर लिया और उनको दबाने लगा. मैंने उनके मुँह में अपना मुँह डाला और उन्हें पागलों की तरह किस करने लगा. अब वो भी जोश में आ गयी थी आहह, उम्म्म्म. अब में उनके बूब्स को अपने मुँह में भरने की कोशिश कर रहा था, लेकिन वो इतने बड़े थे कि यह नामुमकिन था. अब वो उधर सिसकारियाँ भर रही थी सस्स्स्स्सस आहह क्या कर रहे है आप? आहह, ओमम्म्ममम, आहह, ओमम्म्मम. अब में भी जोश में आ गया था और मेरा टावल भी खोल दिया था. अब मेरा लंड पूरी मस्ती से खड़ा था.

अब वो यह देखकर बोली कि राहुल यह तो बहुत ही बड़ा है, में इसे नहीं झेल सकती, कितना लंबा और मोटा है? तुम्हारे भैया का 5 इंच से ज़्यादा नहीं होगा, लेकिन तुम्हारा तो ऊफफफफफफ्फ़, बताओ तो सही क्या साईज है? तो में बोला कि ज़्यादा नहीं यही कोई 8 इंच लंबा और 4 इंच मोटा है और अब तुम डरो नहीं मेरा वादा है कि जब यह तुम्हारी चूत में एक बार में पूरा जाएगा, तो तब तुम खुद ही बोलोगी कि प्लीज राहुल पूरा डालकर चोदो मुझे, विश्वास करो जरा इसको अपने प्यारे हाथ में लेकर तो प्यार करो.

भाभी डरते हुए मेरे लंड को अपनी हथेली से सहलाने लगी, तो कुछ देर के बाद भाभी को अच्छा लगने लगा, तो उन्होंने किस करते हुए मेरे लंड को ज़ोर से दबाया. मैंने टावल से उनके गीले बदन को पोंछते हुए कहा कि चलिए हम आज सुहाग दिन ही मनाएँगे. मैंने उनको अपनी बाँहों में उठा लिया और ले जाकर बेड पर लेटा दिया और उन्हें किस किया. वो बोली कि किस में ही टाईम खराब करोगे या कुछ आगे भी करोगे. में उनकी एक-एक निप्पल को चूसने लगा.

अब वो ज़ोर-ज़ोर से चिल्ला रही थी कि और ज़ोर से चूसो, आआआअहह, ऊऊहह और झटपटा रही थी. अब में अपने दोनों हाथों से उनके बूब्स को दबा रहा था और अपने मुँह से एक-एक करके चूस रहा था. में अपने एक हाथ को उनकी चूत के बालों पर फैरने लगा, तो वो अपने पैरों को उछाल-उछालकर चिल्ला रही थी कि राहुल और ज़ोर से करो और ज़ोर से दबाओ और ज़ोर से चूसो.

में उनके पूरे बदन को चूमने लगा, अब वो मानो नयी दुल्हन की तरह सिसकियाँ ले रही थी और में उनके पूरे बदन को किस पर किस करता चला जा रहा था. मैंने उन्हें उल्टा लेटा दिया और उनके पिछले हिस्से पर अपनी जीभ फैरने लगा. अब उन्हें तो मानो स्वर्ग का आनंद मिल रहा था. मैंने उनकी दोनों जाँघो के बीच में भी अपनी जीभ को घुमाकर उन्हें मस्त कर डाला और ऊपर से नीचे तक उन्हें किस किया.

अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था, तो मैंने उनको लंड चूसने को कहा. वो बोली कि नहीं राहुल यह मेरे मुँह में नहीं जा सकता. मैंने कहा कि ठीक है कोशिश तो करो, में तुम्हारी चूत चाटता हूँ और तुम मेरा लंड चूसो. अब में ऊपर और वो नीचे थी, अब में उनकी बालों वाली चूत में अपनी जीभ डालकर सक करने लगा था. अब वो स्वर्ग में उड़ने लगी और मस्ती में मेरा लंड अपने मुँह में जितना ले सकती थी उतना लेकर चूस रही थी, अब उनको खूब मज़ा आ रहा था.

करीब 15 मिनट के बाद वो बोली कि राहुल में झड़ने वाली हूँ, तुम ज़ोर-ज़ोर से मेरी चूत को चूसो, मेरी चूत को खा जाओ, आआआआआअहह, आज तक कभी मेरे पति ने इस तरह से मेरी चूत नहीं चाटी है, आआआआमम्म्ममम और यह बोलते हुए उन्होंने मेरी गर्दन अपनी टांगो में कस ली और अपनी चूत ऊपर उठा दी. अब में समझ गया कि वो झड़ गयी है, तो इतनी देर में उनकी चूत का रस मेरे मुँह के रास्ते मेरे गले में उतर गया.

अब वो शांत को चुकी थी और मेरा लंड अब भी चूस रही थी. कुछ देर बाद में उठकर उनकी टांगो के बीच में बैठ गया और उनकी चूत के मुँह पर अपना लंड रखा और थोड़ी देर के लिए उन्हें सताने के लिए उस पर धीरे-धीरे रगड़ने लगा. अब उन्हें इतना मज़ा आ रहा था कि वो बोल भी नहीं पा रही थी, लेकिन उनके चेहरे से साफ जाहिर था कि वो मेरे लंड को अपनी चूत के अंदर लेने के लिए बेकरार हो रही थी. मैंने उनकी चूत के मुँह पर मेरा लंड रखकर एक हल्का सा धक्का मारा, तो वो सिहर उठी.

अब उन्हें दर्द होने लगा था, तो में उनके मुँह पर झुककर उन्हें किस करने लगा. अब उन्हें वो अच्छा लगा और मैंने किसिंग के दौरान एक और धक्का दे दिया, तो मेरा लंड कुछ अंदर चला गया. अब उनकी चीख निकल गयी, लेकिन मेरे किस करने की वजह से उनकी चीख मेरे मुँह में ही रह गयी.

मैंने अपने किस को चालू रखा, तो उन्हें इससे बहुत अच्छा लग रहा था और मेरे दोनों हाथ उनके बूब्स को मसल रहे थे. अब उन्हें बहुत मज़ा आ रहा था और मैंने दूसरा धक्का दिया तो मेरा लंड और अंदर चला गया. वो ज़ोर से चिल्लाई, लेकिन मैंने उनके मुँह को अपने किस से भर दिया था और उनके बूब्स को ज़ोर-ज़ोर से दबाने लगा था. अब उसे थोड़ा दर्द जरूर हुआ था, लेकिन वो मज़े लूट रही थी.

थोड़ी देर तक उनके बूब्स सहलाने के बाद मैंने एक और आखरी धक्का दिया तो मेरा पूरा 9 इंच लंबा लंड उनकी चूत के अंदर चला गया. अब वो ज़ोर से सिसकारी मार रही थी आहह, उईईईईईई, में मर गयी, मज़ा आ गया, चोद दे याररररर, आहह. अब में से धीरे-धीरे धक्के मारने लगा था. अब वो अपने कूल्हें उछाल-उछालकर मेरा साथ देने लगी थी.

कुछ देर के बाद मैंने उसके पैर अपने कंधो पर रखे और अपना पूरा लंड उसकी चूत में अंदर बाहर कर रहा था. अब उनके पैर मेरे कंधे पर होने से पोज़िशन इतनी टाईट थी कि मेरा लंड उनकी चूत के अंदर तक चला गया था और मेरा लम्बा लंड भाभी की चूत में उछल कूद करने लगा था.

अब वो चिल्ला रही थी कि बहुत बड़ा है, हाईईईईई अब बस करो, मुझसे सहा नहीं जाता प्लीज, लेकिन अब में रुकने वाला नहीं था. अब कुछ देर के बाद उनकी चूत में मेरे लंड ने अपनी जगह बना ली थी और अब भाभी भी मुझसे कह रही थी और ज़ोर से फक करो, मुझे आज से पहले ज़िंदगी में ऐसा मज़ा कभी नहीं आया और में धक्के पे धक्के दे रहा था और वो भी उछल-उछलकर मेरा साथ दे रही थी.

अब में ज़ोर-ज़ोर से अपना लंड उनकी चूत में अंदर बाहर करने लगा था. अब वो अपने बाल नोच रही थी, तो कभी अपने बूब्स को दबा रही थी, लेकिन मुझे उनके साथ आज ज़िंदगी का मज़ा लूटना था. अब वो इतनी तेज़ी से उछल रही थी कि उसकी चूत से फच-फच की आवाजें पूरे रूम को भरने लगी थी. अब भाभी भी मेरा हौसला बढ़ा रही थी और ज़ोर से राहुल और ज़ोर से, अब में झड़ने वाली हूँ, तुम मुझे बहुत मज़ा दे रहे हो, आआआआआअहह, आआमम्म्मम, हाँ और ज़ोर से, आआआअहह, लो में झड़ गयी और थोड़ी देर के बाद वो झड़ गयी.

कुछ देर के बाद में परेशान हो गया था कि में झड़ क्यों नहीं रहा हूँ? और 10 मिनट के बाद मैंने उनकी चूत में अपना गर्म-गर्म रस डाल दिया और इस दौरान वो भी से झड़ गयी थी. अब मेरा लंड अभी तक उनकी चूत के अंदर था. थोड़ी देर के बाद हम अलग हुए तो मैंने कहा कि मन नहीं भरा है.

वो बोली कि तो करते रहो, तो मैंने कहा कि पहले तुम्हें इस लंड महाराज की सेवा करनी होगी. उसने उसे अपने हाथ में लेकर सहलाना चालू किया. अब में उसके निप्पल को मसलने लगा था, तो अब उनके निप्पल भी टाईट होने लगे थे. उन्होंने मेरे लंड को चूमा और अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी. अब मुझे बड़ा आनंद आ रहा था और अब में भी बोल रहा था कि दिव्या भाभी आज इसे पूरा पी लो और ज़ोर से चूस, पूरी जीभ से चाट, इसे पूरा खा लो, खूब ज़ोर से लो प्लीज.

अब वो भी उम्म्म्मममम करके लॉलीपोप की तरह चूसे जा रही थी. अब उसने अपनी जीभ से मेरा पूरा लंड साफ कर दिया था और उसे वापस फ्रेश केले की तरह खड़ा कर दिया था और अब उसने मेरा लंड चूस-चूसकर गर्म लोहे की तरह बना दिया था.

अब में उसकी चूचियों से खेल रहा था और अब वो भी कड़क हो गयी थी. में बोला कि अब में तुमको से मजा देता हूँ और उनसे बोला कि अब में तुम्हें डॉगी स्टाईल में चोदूंगा. वो बोली कि तो आज मेरे ऊपर नई-नई स्टाईल ट्राय करो, में देखूं तू सही. मैंने उसके दोनों हाथों को साईड में रखी टेबल पर जमा दिए और बोला कि अब थोड़ा झुक जाओं. मैंने उन्हें डॉगी स्टाईल में खड़ा कर दिया और पीछे से उनके दोनों बूब्स को पकड़कर मसल डाला और अपना लंड उनकी दोनों जांघो के बीच में डालकर से अपने लंड को उनकी चूत पर थोड़ा रगड़ा और उसे गर्म किया.

थोड़ी देर के बाद मैंने अपना पूरा लंड एक ही झटके में अंदर डाल दिया. अब मेरे हाथ उनके बूब्स को मसल रहे थे और उनके निप्पल को पकड़कर खींच रहा था. अब इस स्टाईल में उन्हें दोनों तरफ से इतना मज़ा आ रहा था कि वो आहह, ऊहह, ऊऊऊफफफफफफफफफ्फ़ करती जा रही थी और बोल रही थी कि करते रहिए रुकिये नहीं. अब मेरा लंड उनकी चूत में मशीन की तरह चला गया था और फिट हो गया था. इससे उन्हें बहुत दर्द हो रहा था और मुझे भी बहुत आनंद आ रहा था.

मैंने उनसे कहा कि अब मेरे मैं घोड़े कि ताकत देखो, तुम्हें घोड़ी की तरह चोदूंगा. मैंने अपनी पोज़िशन लिए उनके बूब्स को ज़ोर से पकड़ लिया और धक्का देने लगा. अब वो भी अपनी गांड को पीछे कर करके मेरा पूरा लंड खाना चाहती थी. अब में भी ज़ोर-ज़ोर से धक्के देने लगा था और अब मुझे उनके गोल- गोल कूल्हों को धक्के देने में मज़ा आ रहा था.

अब वो बोल रही थी कि चल मेरे घोड़े फटाफट और ज़ोर से और जोर से आज तेरी दिव्या मस्त हो गयी है, राहुल आज मान गयी तुझको, आज तक इतना मजा कभी नहीं आया. अब मेरा वक़्त आ गया था कि अब में कभी भी अपना पानी छोड़ सकता था और अब वो भी झड़ने वाली थी. मैंने उसकी गांड को अपने दोनों हाथों से पकड़कर धक्के देना चालू किया और अब वो भी काफ़ी खुश व चिल्ला भी रही थी, आआआआआहह और ज़ोर से धक्का मारो, मेरी चूत फाड़ दो और हम दोनों एक साथ झड़ गये और हम धीरे-धीरे अलग हुए और मैंने उनके साथ थोड़ी इधर-उधर की बातें की.

मैंने पूछा तो उनसे उनको कैसा लगा? और बोला कि अच्छा एक नयी स्टाईल और है करवाना चाहोगी? तो वो बोली कि क्या? जल्दी बोलो, जो करना है जैसे करना है बस करते जाओ, कुछ मत पूछो मेरे राहुल. मैंने कहा कि क्या में तुम्हारे बूब्स को चोद सकता हूँ? तो वो बोली कि कैसे? तो मैंने उन्हें बताया कि में तुम्हारे बूब्स को पकड़कर उसे भींच दूँगा और उसमें अपना लंड घुसाकर तुम्हारे बूब्स को की चुदाई करूँगा.

मैंने उन्हें बताया कि मेरे लंड के आगे पीछे होने से तुम्हारे निप्पल और बूब्स दोनों को मज़ा आएगा, तो वो बोली कि ठीक है, चलो आजमाते है. मैंने उसे सोफे पर लेटा दिया और उनकी कमर तक आ गया और उन्हें अपने बूब्स को अपने दोनों हाथों से दबाकर उनके दोनों बूब्स को जोर से भींच दिया. मैंने उनके बीच में से अपने लंड के लिए जगह बनाई और उसमें डालकर अंदर बाहर किया. अब उन्हें पहले तो ज्यादा मज़ा नहीं आया, लेकिन बाद में उनकी निप्पल धीरे-धीरे कड़क हो गयी.

अब में ज़ोर-ज़ोर से उनके बूब्स को चोदने लगा था और उनके बूब्स को और जोर-जोर से दबाने लगा था, तो उन्हें बहुत मजा आने लगा. अब बीच-बीच में मेरा लंड उनके होंठो को भी छू लेता था. अब उन्हें चूचियों की चुदाई का मज़ा आ गया था और उन्होने मेरा लंड अपने मुँह में भर लिया और चूसने लगी.

अब में उनके निप्पल मसल रहा था और अपने एक हाथ से उनकी चूत को मसल रहा था. अब वो भी बुरी तरह खुश हो गयी थी. मैंने अपना लंड उनके मुँह से बाहर निकाला, क्योंकि अब में झड़ने वाला था और मैंने अपने लंड का फव्वारा उनके बूब्स पर ही छोड़ दिया और मुझे इससे इतना मज़ा आया कि क्या बताऊँ?

में उन्हें अपने से लिपटाकर अपनी गोदी में बैठा लिया और मेरा लंड उनकी दोनों गांड के बीच में डालकर पीछे से उनको किस करता, उन्हें सहलाता, उनके बूब्स दबाता और उनकी चूत, गांड सबको चूमता, चाटता, उंगली करता हुआ उनसे बात करता रहा और अब में उन्हें छोड़ना नहीं चाह रहा था. में और वो इसी पोज़िशन में सोफे पर जाकर एक दूसरे पर लेट गये और चुम्मा चाटी करने लगे. अब मुझे मानो आज जन्नत और उसमें हूर की परी मिल गयी थी और उन्हें उसका नज़ारा देखने को मिल गया था.

हम दोनों एक दूसरे की बाँहों में आ गिरे और बिस्तर पर लेट गये. अब में नीचे और वो ऊपर थी और मैंने उन्हें अपनी बाँहों में भर लिया और उन्हें किस करने लगा. वो बोली कि ऐसी शानदार मस्ती मुझे आज तक नहीं मिली थी. मैंने कहा कि मेरी जान तुम जब मौका दोगी तो इससे भी जोरदार स्टाईल में करूँगा कि तुम सोचती रह जाओगी, आज से तुम मेरी हो गयी हो ना, अब तुम जब भी बुलाओगी तो में हाज़िर हो जाऊंगा मेरी जान और मैंने एक ज़ोर का चुम्मा लिया और उसकी जीभ भी चूस ली.

थोड़ी देर के बाद हम दोनों उठे और अपने-अपने कपड़े बदल लिए और बोले कि जब भी मौका मिलेगा, हम दोनों इस तरह के मज़े लूटते रहेंगे और खूब मस्ती करेंगे.

शादी में भाभी को घोड़ी बनाकर चोदा,bhabhi,desi bhabhi,bhabhi ki chudai,indian bhabhi,bhabhi chudai,सेक्सी भाभी,bhabhi ki jawani,bhabhi ki kahani,
hot desi bhabhi,desibhabhisex,hot indian bhabhi,bhabhi ki chudayi,devar bhabhi,devar bhabhi chudai,bhabhi devar,