विधवा आंटी के साथ मस्ती – Aunty ke sath masti

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम बंटी है और मेरी उम्र 25 साल है. में दिखने में थोड़ा बहुत सुंदर हूँ और में इस साईट का बहुत पुराना रीडर हूँ और मैंने इसकी लगभग सभी कहानियां पढ़ी है. ये घटना मेरे साथ 2 महीने पहले घटी है. में अमरावती (महाराष्ट्र) में इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा हूँ और अभी तो में IIIrd ईयर में हूँ और मुझे सभी लड़कियों की तरफ पहले से ही बहुत ज़्यादा लगाव रहा है. ये मेरी पहली और रियल स्टोरी है और अगर मुझसे कोई गलती हो गयी हो तो प्लीज मुझे माफ़ कर देना तो अब में आप सबको ज़्यादा बोर ना करते हुए सीधे अपनी स्टोरी पर आता हूँ.
अब यहाँ मेरे अंकल भी रहते थे, जिनके यहाँ में अक्सर जाया करता था. उनके घर में वो, उनकी पत्नी और उनकी एक बेटी जो कि 19 साल की है और उनका एक बेटा जो कि 18 साल का है वो रहते है. अंकल की उम्र कोई 54 साल की होगी और उनकी पत्नी की उम्र कुछ 48 साल होगी. अंकल बहुत ज़्यादा शराब पीते थे तो उनको केंसर हो गया था और उसके चलते उनकी 1 साल पहले मौत हो गयी. अब उनकी मौत होने के बाद उनका घर जैसे बहुत ही प्रोब्लम में चलने लगा था. अब में सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ. Aunty ke sath masti

ये बात 2 महीने पहले की है, में ऐसे ही मिलने आंटी के घर पर गया था तो आंटी मुझे देखकर बहुत खुश हुई और जैसे कि हर बार होती है, क्योंकि में उन्हें बहुत हँसाता हूँ. शनिवार का दिन था तो आंटी ने मुझसे कहा कि आज रात का खाना यहीं खा लेना और आज रात यहीं रुक जाना तो मैंने भी हाँ कर दी. मेरे दिमाग़ में आज तक उनके बारे में ग़लत ख्याल नहीं आया था और में उनकी बहुत इज्जत करता था.

फिर हमने साथ में मिलकर खाना खाया और आंटी की बेटी का सलेक्शन पुणे में इंजीनियरिंग के लिए हुआ था तो वो घर पर नहीं थी. वहाँ सिर्फ़ वो और उनका लड़का ही था. अब खाना ख़ाने के बाद वो ऊपर के रूम में सोने के लिए चला गया और में और आंटी टी.वी. देखने लगे और बातें करने लगे. अब बातों बातों में हमारा टॉपिक अंकल पर चला गया और आंटी थोड़ी दुखी हो गयी और रोने लगी.

अब में उनके करीब ही बैठा था तो मैंने उनके कंधे पर हाथ रख दिया और उनको समझाने लगा कि जो हो गया वो हो गया उसको याद करके ज़्यादा परेशान मत हो और उनको हँसाने की कोशिश करने लगा, लेकिन आंटी समझने को बिल्कुल ही तैयार नहीं थी. फिर थोड़ी देर के बाद वो उठी और रोते-रोते अपना चेहरा धोने के लिए बाथरूम की तरफ चली गयी. उस वक़्त रात के 11 बजे थे और अब मुझसे भी रहा नहीं गया और में उनके पास उनको मनाने चला गया. फिर मैंने उनको टावल दिया और टावल देते वक़्त मेरा हाथ उनकी चूची को ग़लती से लग गया, लेकिन उन्होंने ध्यान नहीं दिया.

फिर वो पानी पीने लगी तो में नीचे रखा ग्लास उठाने के लिये झुका तो वो थोड़ा पीछे खिसकी और उनकी गांड से मेरा हाथ टच हो गया. इस बार मेरे दिमाग़ में थोड़ी गंदी सोच आ गयी और मेरा ईमान खराब हो गया. उनका वो टच ही कुछ ऐसा था कि मेरा लंड खड़ा हो गया, तब मैंने जीन्स पहनी थी तो उनको कुछ नहीं लगा. फिर वो शांत हो गयी और मेरे साथ बैठकर फिर से टी.वी. देखने लगी. अब टी.वी. देखते समय में ऊपर वाले कमरे में गया और उनके छोटे लड़के की एक नाईट पेंट पहनकर नीचे चला आया. Aunty ke sath masti

अब में फिर से आंटी से बातें करने लगा और थोड़ी ही देर में मैंने उनको अपनी बातों से हंसा दिया और वो नॉर्मल हो गयी. अब वो मुझसे मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में पूछताछ करने लगी. फिर मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उनसे पूछ लिया कि अंकल और उनका रिलेशन कैसा था? वग़ैरा वग़ैरा तो वो फिर से दुखी हो गयी. फिर मैंने उनकी जाँघ पर हाथ रख दिया तो वो हैरान हो गयी और मेरी तरफ गुस्सा करके देखने लगी.

फिर मैंने उनकी आँखो में आँखे डालकर उनसे कहा कि में आपकी ज़रूरते समझ सकता हूँ और आपको पिछले 4 साल से वो नहीं मिला है जो हर औरत की ख्वाहिश होती है. अब वो मेरी बात समझ गयी और मेरे गाल पर एक ज़ोर का चाटा मार दिया. फिर मैंने उनसे कहा कि अगर आपकी इच्छा हो तो में वो खुशी आपको देने की कोशिश करूँगा और ये बात किसी को पता भी नहीं चलेगी और घर की बात घर में ही रहेगी. फिर वो बहुत ज़्यादा गुस्सा हो गयी और उन्होंने फिर से मुझे एक और चाटा मारा और गुस्सा होकर ऊपर सोने चली गयी. फिर थोड़ी देर के बाद में भी टी.वी. बंद करके सो गया. फिर करीब आधे घंटे के बाद आंटी फिर से मेरे पास आई और तब में सो गया तो उन्होंने मुझे जगाया और कहा कि ये बात किसी और को मत बताना तो अब में समझ गया कि वो भी गर्म हो चुकी है. Aunty ke sath masti

फिर मैंने उसके लिप पर अपने लिप रख दिए और उनकी चूचियां आराम से दबाने लगा, उनकी चूचियां बहुत बड़ी और मुलायम थी. सॉरी दोस्तों में आपको मेरी आंटी के बारे में तो बताना ही भूल गया, वो ज़रा मोटी है और रंग गोरा और उनका फिगर कुछ 38-30-38 है. फिर मैंने उनको बहुत कसकर पकड़ लिया और अपना हाथ उनकी जाँघो पर फैरने लगा और अपना हाथ फैरते फैरते में उनकी चूत को सलवार के ऊपर से ही सहलाने लगा.

फिर थोड़ी देर के बाद वो बहुत गर्म हो गयी और मज़ा लेने लगी. अब में लगातार उनके लिप चूसता रहा और अब वो भी मेरा बहुत साथ दे रही थी. फिर में उनके गले पर अपनी जीभ घुमाने लगा. अब वो बहुत ज़्यादा मचलने लगी और मेरे सर के बालों में अपना हाथ घुमाने लगी. फिर उन्होंने मेरा लंड जो कि पूरी तरह से खड़ा हो चुका था, उसे मेरी नाईट पेंट के ऊपर से ही पकड़कर दबाने लगी और हिलाने लगी. फिर मैंने उनका सलवार निकाल दिया और उनके पेट को चाटने लगा. दोस्तों मुझे औरतों का जिस्म चाटने में बहुत मज़ा आता है.

फिर मैंने अपने थूक से उनके पूरे पेट को गीला कर दिया. फिर उन्होंने मुझे धक्का दिया और अपने से अलग कर दिया और मेरे ऊपर आ गयी और मुझे हग करके मुझे किस करने लगी. फिर उन्होंने मेरा नाईट पेंट निकाल दिया और मेरे लंड को चाटने लगी. दोस्तों अब मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. फिर वो मेरे लंड को चूसने लगी और अब मुझे वो बहुत ज़्यादा एक्सपर्ट और भूखी लग रही थी, अब वो मेरा मुठ भी मार भी रही थी और मेरा लंड भी चूस रही थी. फिर करीबन 10 मिनट के बाद में उनके मुँह में ही झड़ गया. Aunty ke sath masti

फिर मैंने उनको नीचे लेटाया और उनकी ब्रा को खोल दिया और उनकी चूचियों को चूसने लगा. उनके चूचे इतने बड़े थे कि में अपने दोनों हाथों से पकड़-पकड़कर दबा रहा था. अब में उनकी चूचियां करीब 5 मिनट तक चूसता रहा. फिर में थोड़ा नीचे आया और उनकी जाँघो को चाटने लगा. अब वो पूरी तरह से मदहोश हो रही थी, तब मेरा ध्यान उनकी पेंटी पर गया तो वो पूरी तरह से गीली हो चुकी थी, शायद वो झड़ चुकी थी.

फिर मैंने उनकी पेंटी निकाल दी और उनकी चूत को चाटकर साफ करने लगा, लेकिन उनकी चूत की खुशबू सूँघकर में तो जैसे पागल ही हो गया. फिर वो मौन करने लगी और आवाज़े निकालने लगी, आआ सस्सस्स हह ऊऊ ईईसस्सस्स और चाटो प्लीज और अंदर तककककक एयाया हह एयाया हह एयाया हह. अब में उनकी चूत के दाने को चाटने लगा और अब में लगातार उनकी चूत के दाने को चूसने लगा और अपनी जीभ अंदर बाहर करने लगा. अब तो वो पागल हो रही थी और मेरा सर पकड़कर अपनी चूत पर दबा रही थी. अब में उनकी चूत 15 मिनट तक चाटता रहा.

फिर वो झड़ गयी और में उनकी चूत का पानी पूरा पी गया, वाउ यार क्या टेस्ट था? फिर मैंने उनकी ब्रा से उनकी चूत साफ की तो वो कहने लगी कि अब और मत तड़पाओ प्लीज, अब अपना लंड मेरी चूत में डाल दो प्लीज प्लीज प्लीज. Aunty ke sath masti

फिर में उठा और उनके ऊपर आ गया. फिर उन्होंने मेरा लंड अपनी चूत पर सेट किया और कहा कि पहले धीरे धीरे अंदर डालना, क्योंकि मैंने पिछले 4 साल से चुदाई नहीं की है.

फिर मैंने ओके कहा और अपना लंड धीरे-धीरे उनकी चूत में डालने लगा, उनकी चूत बहुत टाईट थी. फिर उन्होंने मुझे रुकने को कहा और अपने मुँह से थोड़ा थूक निकाली और अपनी चूत को गीला कर दिया. फिर मैंने लंड अंदर डालने की कोशिश की तो इस बार मेरा लंड धीरे से उनकी चूत में चला गया, लेकिन वो चिल्ला उठी और अब उनकी आँखो में से आँसू निकल पड़े.

फिर मैंने अपने होंठ उनके होंठ पर रख दिए, ताकि ज़्यादा आवाज़ ना हो. फिर में एकदम धीरे-धीरे अपना लंड अंदर बाहर करने लगा. फिर करीब 2 मिनट में उनका दर्द थोड़ा कम हुआ और वो मेरी गांड को पकड़कर अपनी चूत पर दबाने लगी. फिर में समझ गया और मैंने अपनी रफ़्तार तेज़ कर दी और उनकी टाईट चूत को चोदने लगा. Aunty ke sath masti

फिर करीब 5 मिनट बाद वो मौन करने लगी आऊऊ ईसस्स्सस्स और करो और करो, चोदो अपनी रांड को, बुझा दो मेरी चार साल की प्यासस्सस और करो प्लीज, चोदो मुझे ययययसस्स्स्स्सस्स. फिर करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद में जब झड़ने वाला था तो में अपना लंड बाहर निकालने लगा, तब आंटी बोली कि अंदर ही छोड़ दे रे तेरा पानी. फिर में उनकी चूत में ही झड़ गया और अब मेरे झड़ते ही वो भी झड़ गयी और अब उनका और मेरा गर्म-गर्म पानी आपस में मिल गया था वाउ यार क्या फीलिंग थी? फिर हम कुछ देर वैसे ही पड़े रहे. फिर हम उठ गये और उस रात हमने फिर से एक बार चुदाई की, तब से जब भी आंटी को मेरी ज़रूरत लगती है में उनके यहाँ चला जाता हूँ. सब लोग जानते है कि हर औरत की कोई ना कोई ख्वाहिश होती है और वो तो उनको पूरी करनी चाहिए, क्योंकि ख्वाहिशे पूरी करने के लिए ही होती है. Aunty ke sath masti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *