पड़ोसी की नई नवेली चुदक्कड़ दुल्हन

पड़ोसी की दुल्हन
पड़ोसी की दुल्हन

हैल्लो दोस्तों, आज में आप सभी लोगों को अपना एक सच्चा सेक्स अनुभव बताने जा रहा हूँ जो मेरे साथ करीब दो महीने पहले मुंबई में हुई एक घटना है. दोस्तों में इस कहानी में आप सभी को बताने जा रहा हूँ कि कैसे मैंने अपने पड़ोस में रहने वाली नई नवेली दुल्हन की चुदाई के मज़े लिए और अब में थोड़ा सा अपना परिचय देकर अपनी आज की कहानी को शुरू करता हूँ. दोस्तों मेरा बदन मस्त गठीले और उसके साथ साथ में दिखने में ठीक है.मेरी उम्र 24 साल और मेरा यह बदन बहुत अच्छा है. मेरी लम्बाई 5.11 मेरे लंड की लम्बाई 6 इंच और इसकी मोटाई 3 इंच है. दोस्तों यह मेरी आज की कहानी थोड़ी सी लंबी ज़रूर है, लेकिन इसको पढ़कर आपकी चूत और लंड जोश में आकर गीले ज़रूर हो जाएँगे, क्योंकि यह घटना बहुत मस्त मजेदार है और अब मेरी कहानी को पढ़कर आप सभी उसके मज़े लीजिए, दोस्तों यह उस समय की घटना है जब में अकेले एक ही एक कमरे में किराए से रहता था और मेरे आसपास वाले घर में तब तक कोई भी मेरा पड़ोसी नहीं आया था.कुछ समय के बाद एक नया शादीशुदा जोड़ा मेरे पास वाले घर में रहने के लिए आ गया. दोस्तों मेरे काम का दबाव उस समय इतना ज्यादा था कि में उनसे इतने दिन गुजर जाने के बाद भी सही से मिल भी नहीं पाया था और मैंने बस उन दोनों को एक दो बार देखा ही था. मुझे कुछ दिनों के बाद पता चला कि मेरे पड़ोसी की उस समय रात की ड्यूटी रहा करती थी और उस वजह से उसकी बीवी हमेशा रात को अकेली ही होती थी.

एक बार में रात को ज्यादा गरमी होने की वजह से नहा रहा था कि तभी मुझे मेरे दरवाजे पर खटखटाने की आवाज सुनाई देने लगी. उस समय बाथरूम में होने की वजह से मैंने वहीं से ही आवाज देकर पूछा कि कौन है? लेकिन मुझे कोई भी आवाज़ नहीं आई इसलिए में अब अपनी अंडरवियर को पहनकर दरवाजा खोलने चला गया और दरवाजा खोलकर मैंने देखा तो मेरे होश ही उड़ गये क्योंकि बाहर दरवाजे पर मेरे पड़ोसी की बीवी जिसका नाम नेहा था, वो मेरे सामने एक सेक्सी सी साड़ी में खड़ी हुई थी.

उसके क्या मस्त मुलायम और उभरे हुए बूब्स थे और उसको देखकर में एकदम चकित हो गया और में उसको घूर घूरकर देखने लगा था. मैंने उससे पूछा कि अरे आप तो मेरे नये पड़ोसी है ना? तब उसने मुझसे कहा कि हाँ में आपके पास वाले घर में अपने पति के साथ रहती हूँ और उसी समय मैंने उससे कहा कि प्लीज आप अंदर आ जाइए ना. वो मेरे कहने पर अंदर आ गयी और उसके बाद मैंने उससे पूछा कि क्या आपको कुछ काम था? और तभी उसने मुझसे कहा कि हाँ मुझे थोड़ी सी शक्कर चाहिए थी इसलिए मुझे आपके पास इस समय आना पड़ा. में उसके कहने पर शक्कर लेने के लिए अपनी रसोई में चला गया.

दोस्तों मुझे उसके मेरे घर में इस तरह उस समय आने की वजह से बिल्कुल भी विश्वास नहीं हो रहा था और तभी वो भी मेरे पीछे पीछे रसोई तक आ गई, लेकिन मुझे पता नहीं था इसलिए में पीछे मुड़ा और उसी समय हमारी टक्कर हो गयी और मेरे हाथ से शक्कर नीचे गिर गयी. उसने मुझसे अपनी गलती के लिए माफी मांगी और अब वो भी नीचे झुककर मेरे साथ शक्कर उठाने में मेरी मदद करने लगी थी, इसलिए वो नीचे झुकी हुई थी और उसका वो ब्लाउज ढीला होने की वजह से उसके गोरे गोरे एकदम गोल मटोल बूब्स अब मुझे साफ साफ दिख रहे थे और उसके बूब्स को देखकर मेरे मुहं से उसी समय ओूऊऊऊऊव निकल गया.

मेरा लंड वो मस्त सेक्सी द्रश्य देखकर तुरंत तनकर खड़ा हो गया और उसको भी मेरा लंड अंडरवियर के अंदर से साफ साफ दिख रहा था, लेकिन उसने भी बिल्कुल अंजान बनते हुए मुझसे पूछा कि क्यों क्या हुआ? में उसी समय तुरंत समझ गया था कि यह लड़की बहुत बड़ी चुदक्कड़ है.

मैंने हिम्मत करके उससे कहा कि मेडम आपके ब्लाउस के अंदर से थोड़ा सा बाहर भी दिख रहा है, मेरे मुहं से यह बात सुनकर वो भी अब शरारती होने लगी और अब उसने मुझसे पूछा कि आप मेरे ब्लाउज के अंदर क्या दिख रहा है? मैंने कहा कि आपके गोरे मुलायम बूब्स, तब उसने कहा कि माफ करना.

में उसकी अब अपनी तरफ से थोड़ी सी तारीफ करने लगा, क्योंकि अब मन से वो शक एकदम दूर हो चुका था, जिसकी वजह से मेरे मन में अब बिल्कुल भी डर नहीं था और इसलिए मैंने उससे कहा कि आपके इस बदन के साथ साथ आपके बूब्स भी बहुत ही अच्छे आकर्षक है, आपको तो मॉडलिंग करनी चाहिए, आप दिखने में भी बहुत सुंदर गोरी आपके पूरे जिस्म में कहीं भी कोई भी कमी नहीं है और भी बहुत कुछ मैंने उससे उसके बारे में कहा जिसको सुनकर वो बहुत खुश हो गई.

मैंने उससे पूछा कि आपका पति कहाँ है? तब उसने मुझे बताया कि वो इस समय नाइट ड्यूटी पर है और उनकी अभी कुछ दिनों से रात की नौकरी शुरू हो गई है और पता नहीं उनका ऐसे रात को नौकरी करना कब तक चलेगा? मुझे अकेले रहकर पूरी रात नींद नहीं आती और मुझे अकेले में डर भी बहुत ज्यादा लगता है, लेकिन में अपनी यह सभी मन की सच्ची बातें अपनी परेशानियाँ किसी को बता नहीं सकती. दोस्तों क्योंकि हम दोनों एक दूसरे से अब एकदम खुल गये थे इसलिए वो मुझे अपने मन की सभी बातें बताने लगी और मैंने तभी उससे कहा कि आप आज रात को यहीं पर रुक जाइए हो सकता है कि आपका मेरे साथ रहकर समय बीत जाएगा और आपसे बातें करके मुझे भी बहुत अच्छा लगा.

आपको यहाँ पर रहकर अकेले रहने की समस्या या किसी भी बात का डर भी नहीं लगेगा और उसके बाद आप कल सुबह चली जाना, लेकिन वो मेरी यह बात नहीं मानी. अब उसने मुझसे पूछा कि हम दोनों यहाँ पर क्या करेंगे? तब मैंने उससे कहा कि आप यहाँ पर रुकोगी उसके बाद में सब कुछ बता दूंगा.

वो आखिर में मेरी उस बात को मान ही गयी और उसी समय मैंने उसको अपनी गोद में उठा लिया, दोस्तों में एकदम चकित था क्योंकि उसने मेरी इस हरकत का बिल्कुल भी विरोध नहीं किया और में पूरी तरह से समझ चुका था कि अब वो मुझसे क्या चाहती है उसके मन में मेरे लिए क्या चला रहा है? दोस्तों अब मैंने मन ही मन में सोच लिया था कि आज इसकी चुदाई आज रात को हो पूरी हो जाएगी. में आज रात को इसकी चुदाई के पूरे मज़े लूँगा.

अब में उसको अपने बेडरूम में ले गया और उसके बाद मैंने उसकी साड़ी का पल्लू नीचे करके ब्लाउज के ऊपर से ही में उसके बूब्स को दबाने लगा था. तब मुझे ऐसा करने में बहुत मज़ा आ रहा था, लेकिन दोस्तों अब पूरी तरह से गरम होकर जोश में आने की वजह से उसके मुहं से आअहह्ह्ह ऊफ्फफ्फ्फ् की आवाज़ निकालने लगी और में उसके मुहं से सिसकियों की आवाज को सुनकर तुरंत समझ गया कि यही एकदम ठीक समय है जिसका फायदा उठाकर में उसकी आज मस्त चुदाई के मज़े ले सकता हूँ.

मैंने उसकी ब्रा के हुक को खोलकर ब्रा को नीचे सरका दिया और में उसके ब्रा से बाहर झूलते हुए गोरे गोरे बूब्स के हल्के भूरे रंग के निप्पल को देखकर अपने होश पूरी तरह से खो बैठा और उसी समय मैंने झपटकर उसके निप्पल को अपने मुहं में लेकर चूसने लगा. उसके वो निप्पल कितने मस्त एकदम रसीले थे मुझे मज़ा आ गया. तभी मैंने उसकी ब्रा को पूरा नीचे उतार दिया.

वो भी जोश में आकर मेरा साथ देकर मेरे लंड को अपने नरम हाथ से धीरे धीरे सहलाने और उसको हल्के से दबाने लगी. उस साली के हाथ में दोस्तों पता नहीं ऐसी क्या बात थी कि उसके छूते ही मेरे लंड पर करंट का झटका लगने लगा और मेरा लंड अब उसकी चूत में जाकर उसकी मस्त जमकर चुदाई के लिए फड़फड़ाने लगा था. मैंने उसके होंठो को अपने होंठो से चूसना शुरू किया जिसमें कुछ देर बाद उसने मेरा पूरा पूरा साथ देना शुरू किया और अब हम दोनों की जीभ से जीभ मिलने लगी, कभी में उसकी जीभ को चूसता तो कभी वो मेरी जीभ के मज़े लेने लगी थी.

में कुछ देर बाद उठकर एक चोकलेट लेकर आ गया और मैंने आधी चोकलेट खाई और बची हुई आधी मैंने उसको दे दी. उस चोकलेट के मेरे मुहं में घुलने के बाद हम दोनों ने एक दूसरे से मुहं मिला लिया और तभी उसने अपने मुहं में घुली उस चोकलेट को मेरे मुहं में डाल दिया और मैंने भी उसके मुहं में डाल दी सब हमारे मुहं में घुलमिल गया था, लेकिन ऐसा करने में हमे मज़ा बहुत आया. अब मैंने अपनी अंडरवियर को उतार दिया और वो मेरा लंबा मोटा लंड देखकर अपने मुहं से लार टपकाने लगी.

वो उस समय बहुत जोश में आ चुकी थी इसलिए उसने मेरा पूरा का पूरा लंड धीरे धीरे करके अपने मुहं में ले लिया और तभी में उसके इस काम को करते हुए देखकर तुरंत समझ चुका था कि ऐसा बिल्कुल भी नहीं था कि वो पहली बार किसी का लंड चूस रही है, क्योंकि मैंने ध्यान से देखा कि उसने लंड को अपने मुहं में लेने के लिए कोई भी संकोच किसी भी तरह का डर उसके चेहरे पर मुझे दिखाई नहीं दे रहा था वो तो बड़े मज़े से इस काम को करने जा रही थी.

मैंने उसकी साड़ी को उतार दिया उसके बाद में उसके पेटिकोट को पूरा ऊपर करते हुए उसकी चिकनी चिकनी गोरी जांघो पर हाथ फेरकर महसूस करने लगा था कि वो साली कितनी चिकनी थी?

तभी मेरा हाथ आगे बढ़ते हुए और भी अंदर घुसा वो सीधा उसकी पेंटी के अंदर तक जा पहुंचा और धीरे धीरे मैंने उसकी पेंटी को भी अब पकड़कर नीचे खींच लिया था और अब में उसको अपने हाथ में लेकर गोल गोल हवा में घुमाने लगा था. मेरे ऐसा करने से वो ज़ोर ज़ोर से हंसने लगी थी.

अब मैंने उसका पेटिकोट भी पकड़कर नीचे खींच लिया, जिसकी वजह से अब वो पूरी तरह से मेरे सामने नंगी लेटी हुई थी और में उसकी कामुक चूत को कुछ देर ध्यान से देखता रहा था और उसके बाद मैंने उसके दोनों पैरों को खोल दिया और उसकी चूत के अंदर मैंने अपनी एक उंगली को डाल दिया. में उसकी चूत की गहराई और उसकी गरमी का अंदाजा लगाने लगा था और तब मैंने महसूस किया कि वो बड़ी मस्त और बहुत गरम थी, दोस्तों मुझे मज़ा आ गया.

अब वो मचलने लगी थी और उसके मुहं से ऊऊऊऊओह उईईईई की आवाजें बाहर निकलने लगी थी, उसी समय में उसकी चूत में अपनी जीभ को डालकर चाटने लगा था और साथ साथ में अपनी एक उंगली को उसकी चूत में डालकर मज़े लेने लगा, जिसकी वजह से वो अब अपने कंट्रोल के बाहर हो गयी थी और वो अपने एक हाथ से अपनी बूब्स को दबाते हुए अपने दूसरे हाथ से वो मेरे सर को अपनी चूत पर दबाकर मुझसे उसकी चूत को जीभ को पूरा अंदर डालकर चाटने चूसने के लिए कह रही थी.

में कुछ देर बाद दोबारा उसको छोड़कर गया और अब में टमाटर का सोस लेकर आ गया और उसको मैंने उसके बूब्स पर डाल दिया और में उस सोस को बड़े ही प्यार से अपनी जीभ से चाट रहा था. ऐसा करने में मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था. कुछ देर बाद उसने भी अब मेरे लंड पर चोकलेट को डाल दिया और अब वो मेरा लंड एक बार से चाटने लगी थी और उसी समय मैंने सही मौका देखकर अपने लंड को उसकी चूत के अंदर डाल दिया.

तब मैंने महसूस किया कि उसकी वो सेक्सी रसभरी चूत बहुत टाइट थी और उस साली की चूत में मेरे लंड को अंदर जाने में बहुत दर्द परेशानी हो रही थी, लेकिन भी मैंने हार ना मानकर अपना पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में एक जोरदार धक्के के साथ अंदर डाल दिया और उसके मुहं से एक बहुत ज़ोर की चीख निकल गई, लेकिन में तब भी अपने काम में लगा रहा.

मैंने जोश में आकर बस धक्के पे धक्के मारने शुरू कर दिए थे और कुछ देर बाद वो भी मेरे धक्को के मज़े लेकर अब मेरी गोद में बैठकर उछलकूद कर रही थी. कुछ देर के धक्कों के बाद वो और में साथ साथ ही झड़ गये और तब तक उसके पति का आने का समय भी हो गया था इसलिए उसने अब जल्दी से अपने कपड़े पहने और वो मुझसे कल एक बार से वापस आने का वादा करके अपने घर पर चली गई.

दोस्तों अब में उसको हर रोज़ रात को मस्त मज़े लेकर चोदता हूँ उसकी चुदाई में हम दोनों को ही बहुत मज़ा आता है और में बहुत जोश में आकर उसकी चुदाई के मज़े लेता रहा और उसने हर बार मेरा पूरा पूरा साथ दिया. कभी उसने मुझसे चुदाई के लिए किसी भी तरह का विरोध नहीं किया और वो भी मेरे साथ मज़े लेने लगी और हम दोनों बहुत खुश थे.

पड़ोसी की दुल्हन,पड़ोसी की नई नवेली चुदक्कड़ दुल्हन,chudai ke sath,chudaikesath,antarvasna,kamukta,hot pics,desi kahani,hot photos,chudai ki kahani,
chudai,hindi sex,antarvasna hindi,अन्तर्वासना,chudai story,antarvasna in hindi,कहानी,bur ki chudai,chudai kahani,
gandi kahani,antarvasna kahani,meri chudai,chudai ki story,सेकसी कहानी,सेक्सी कहानी,desi stories,चुत,सेक्स स्टोरी,